• July 2, 2020

Breaking News :

यूपी बोर्ड अलर्ट: आईडी कार्ड, आधार के बिना नहीं कर पाएंगे ड्यूटी

यूपी बोर्ड अलर्ट: आईडी कार्ड, आधार के बिना नहीं कर पाएंगे ड्यूटी

बरेली। यूपी बोर्ड परीक्षा परीक्षा 2020 के लिए तैयारियां अंतिम चरणों में हैं। बोर्ड ने परीक्षक बनाने के लिए शिक्षकों का रिकार्ड मांगना शुरू कर दिया है। परीक्षा में ड्यूटी के लिए शिक्षकों के पास आधार कार्ड और आईकार्ड होना जरूरी है। आईकार्ड परीक्षा के ठीक पहले डीआईओएस के हस्ताक्षर से जारी किए जाएंगे।

परीक्षा केंद्र पर ड्यूटी करने वाले स्टाफ को आईकार्ड और आधार कार्ड रखना अनिवार्य है। प्रधानाचार्यों और शिक्षकों के आईकार्ड पर डीआईओएस-एडीआईओएस के हस्ताक्षर होना अनिवार्य है। शिक्षणेत्तर कर्मियों के परिचय पत्र प्रधानाचार्य जारी करेंंगे। बेसिक के शिक्षक भी बिना परिचय पत्र के नहीं रहेंंगे। परीक्षा में ड्यूटी से बचने के लिए बहानेबाजी नहीं चलेगी। सीएमओ से जारी प्रमाण पत्र के आधार पर ही मेडिकल देय होगा। डीआईओएस मनभरन राम राजभर ने बताया सभी केंद्रों को पेपर और कापी के रखरखाव के लिए स्ट्रांग रूम और स्टील अलमारी की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा है। परीक्षा केंद्रों पर अग्निशमन यंत्रों के साथ साथ पानी की बाल्टियां और रेत आदि की भी व्यवस्था होनी चाहिए।

दिव्यांग छात्रों का नहीं हो परेशानी  
दिव्यांग छात्र-छात्राओं को यदि उनका विद्यालय परीक्षा केंद्र के रूप में आवंटित किया गया है तो उन्हें स्वकेंद्र की सुविधा दी जाए। नहीं कि स्थिति में ऐसे स्कूल के छात्र-छात्राओं को नजदीकी केंद्र पर परीक्षा दिलाई जाए। दिव्यांगों के परीक्षा  केंद्र परिवर्तन का आवेदन प्रधानाचार्य के माध्यम से डीआईओएस कार्यालय में प्रस्तुत किया जाए।

यह निर्देश भी दिए गए हैं

1- स्कूल में शौचालय, पीने के पानी, बिजली, साफ-सफाई, इंवर्टर, जेनसेट की व्यवस्था हो।
2- डाटा अपलोड करने के लिए दो कंप्यूटर सिस्टम और एक दक्ष कंप्यूटर आपरेटर की व्यवस्था।
3- उत्तर पुस्तिकाओं का दुरुपयोग रोकने के लिए आवश्यकता से अधिक उत्तर पुस्तिकाओं पर स्कूल की मोहर नहीं लगाई जाए।
4- परीक्षा अवधि में परीक्षा व्यवस्था से जुड़े व्यक्तियों के अलावा सभी का प्रवेश वर्जित रहेगा। फोटोग्राफी भी वर्जित होगी। बालिकाओं की जांच महिलाएं ही करेंगी।
5- परीक्षा संबंधी निर्देश नहीं मानने वालों का वेतन काटा जाएगा।
6- फर्नीचर की व्यवस्था की जाए। छोटे बच्चों का फर्नीचर नहीं लगाया जाए।
7- निरीक्षण के दौरान यदि किसी अधिकारी से केंद्र व्यवस्थापक या स्टाफ ने अभद्र व्यवहार किया तो अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी।
8-तंबू-कनात में परीक्षा नहीं होगी। परीक्षा अवधि में स्कूल प्रबंधक स्कूल परिसर से 200 मीटर दूर रहेंगे।

Read Previous

आईवीआरआई ने खोजे हर्बल दवाओं को बेअसर करने वाले जीन

Read Next

आपकी गाड़ी का बीमा फर्जी तो नहीं, करा लें चेक